पीएम नरेंद्र मोदी 12 मार्च को बनारस आ रहे हैं। इस दौरान उनके साथ फ्रांस के राष्ट्रपति भी होंगे। इस ऐतिहासिक पल के दौरान पीएम मंडुआडीह- पटना इंटरसिटी को हरी झंडी दिखाएंगे। इंटरसिटी एक्सप्रेस सांस्कृतिक राजधानी कही जाने वाली काशी और पटना से जोड़ेगी। मंडुवाडीह से पटना के लिए चलाई जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस अत्याधुनिक सुविधाएं से युक्त है। महामना एक्सप्रेस की तर्ज पर इसके कोच में तस्वीरों के जरिये भारत की विविधता और संस्कृतियों को दर्शाया गया है। मेघालय के खासी नृत्य से लेकर राजस्थान की पारंपरिक कलाकृतियों को जगह दी गई है। पाषाण काल के दौरान भित्ती चित्रों के साथ ही पर्यावरण के प्रति जागरुकता के संदेश की तस्वीरें भी लगी हैं। अलग-अलग कोच में अलग-अलग प्रांतों की विशेषताओं की तस्वीरें लगाई गई हैं। ट्रेन के सभी कोच में बायो टॉयलेट हैं। इससे पटरियां गंदी नहीं होंगी। कोच में डस्टबिन और अग्निशमन यंत्र रखे गए हैं। डस्टबिन खुला नहीं होगा।सभी कोच में एलईडी डिस्प्ले है। इसके जरिये ट्रेन कहां पहुंची, कौन सा स्टॉपेज है, यह जान सकेंगे। इसके अलावा टॉयलेट खाली न रहने पर इसके ऊपर रेड सिग्नल का सिंबल दिखेगा। खाली रहने पर ग्रीन सिग्नल होगा।

एक नजर में मंडुवाडीह-पटना इंटरसिटी
ट्रेन संख्या – 15125
मंडुवाडीह से रवानगी : सुबह 6.15 बजे
वाराणसी कैंट : 6.25-6.35
मुगलसराय : 7.20-7.30
पटना जंक्शन : 10.35 बजे पहुंचेगी ट्रेन

ट्रेन संख्या – 15126
पटना जंक्शन से रवानगी : शाम 5.45 बजे
मुगलसराय : 8.55-9.08
वाराणसी कैंट : 9.55-10.00
मंडुवाडीह : रात 10.15 बजे पहुंचेगी ट्रेन

यहां होगा स्टॉपेज : बक्सर और आरा।

16 कोच की चेयरकार वाली होगी ट्रेन
मंडुवाडीह-पटना इंटरसिटी एक्सप्रेस चेयरकार वाली ट्रेन होगी। इसमें वातानुकूलित चेयरकार की एक बोगी, द्वितीय श्रेणी की चेयरकार के 11 कोच और दो जनरल बोगी होंगी। दो एसएलआर बोगी होगी।

Leave a Reply