⛅ *दिनांक 25 दिसम्बर 2017*
⛅ *दिन – सोमवार*
⛅ *विक्रम संवत – 2074*
⛅ *शक संवत -1939*
⛅ *अयन – दक्षिणायण*
⛅ *ऋतु – शिशिर*
⛅ *मास – पौष*
⛅ *पक्ष – शुक्ल*
⛅ *तिथि – सप्तमी रात्रि 02:16 तक तत्पश्चात अष्टमी*
⛅ *नक्षत्र – पूर्व भाद्रपद रात्रि 01:09 तक तत्पश्चात उत्तर भाद्रपद*
⛅ *योग – सिद्धि सुबह 07:26 तक तत्पश्चात व्यतीपात*
⛅ *राहुकाल – सुबह 08:37 से सुबह 09:58 तक*
⛅ *सूर्योदय – 07:14*
⛅ *सूर्यास्त – 18:03*
⛅ *दिशाशूल – पूर्व दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण – तुलसी पूजन दिवस, महामना पं. मदनमोहन मालवीय जयंती (दि.अ.)*
💥 *विशेष – सप्तमी को ताड़ का फल खाने से रोग बढ़ता है था शरीर का नाश होता है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *आधि व्याधि से बचने के लिए* 🌷
👉🏻 *आधि व्याधि से बचने के लिए शनिवार के दिन पीपल का स्पर्श हितकारी माना गया है. आधि = मन के विकार माने काम , क्रोध आदि से बचना हो तो और व्याधि माने शरीर के रोग ..आधि व्याधि से बचने के लिए शनिवार को पीपल को स्पर्श करे और*
🌷 *ॐ हौं जूं सः*
*ये मन्त्र की एक माला रोज ऐसे २१ दिन जप करे..*
👉🏻 *तो आधि माना मन के रोग और व्याधि माना शरीर के रोग मिट जायेंगे…इस मन्त्र में ४ बीज मन्त्र है..फायदा जरुर होता है।
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *व्यतिपात योग* 🌷
🙏🏻 *व्यतिपात योग की ऐसी महिमा है कि उस समय जप पाठ प्राणायम, माला से जप या मानसिक जप करने से भगवान की और विशेष कर भगवान सूर्यनारायण की प्रसन्नता प्राप्त होती है जप करने वालों को, व्यतिपात योग में जो कुछ भी किया जाता है उसका १ लाख गुना फल मिलता है।*
🙏🏻 *वाराह पुराण में ये बात आती है व्यतिपात योग की।*
🙏🏻 *व्यतिपात योग माने क्या कि देवताओं के गुरु बृहस्पति की धर्मपत्नी तारा पर चन्द्र देव की गलत नजर थी जिसके कारण सूर्य देव अप्रसन्न हुऐ नाराज हुऐ, उन्होनें चन्द्रदेव को समझाया पर चन्द्रदेव ने उनकी बात को अनसुना कर दिया तो सूर्य देव को दुःख हुआ कि मैने इनको सही बात बताई फिर भी ध्यान नही दिया और सूर्यदेव को अपने गुरुदेव की याद आई कि कैसा गुरुदेव के लिये आदर प्रेम श्रद्धा होना चाहिये पर इसको इतना नही थोडा भूल रहा है ये, सूर्यदेव को गुरुदेव की याद आई और आँखों से आँसु बहे वो समय व्यतिपात योग कहलाता है। और उस समय किया हुआ जप, सुमिरन, पाठ, प्रायाणाम, गुरुदर्शन की खूब महिमा बताई है वाराह पुराण में।*
💥 *विशेष ~ व्यतीपात योग – 25 दिसम्बर 2017 सोमवार को सुबह 07:27 से 26 दिसम्बर, मंगलवार को प्रातः 06:46 तक व्यतीपात योग है।

।।ॐ श्री हरि।।

Leave a Reply