⛅ *दिनांक 07 जनवरी 2018*
⛅ *दिन – रविवार*
⛅ *विक्रम संवत – 2074*
⛅ *शक संवत -1939*
⛅ *अयन – दक्षिणायण*
⛅ *ऋतु – शिशिर*
⛅ *गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार मास – पौष*
⛅ *मास – माघ*
⛅ *पक्ष – कृष्ण*
⛅ *तिथि – षष्ठी शाम 04:04 तक तत्पश्चात सप्तमी*
⛅ *नक्षत्र – उत्तराफाल्गुनी रात्रि 01:10 तक तत्पश्चात हस्त*
⛅ *योग – सौभाग्य सुबह 08:58 तक तत्पश्चात अतिगण्ड*
⛅ *राहुकाल – शाम 04:47 से शाम 06:08 तक*
⛅ *सूर्योदय – 07:18*
⛅ *सूर्यास्त – 18:11*
⛅ *दिशाशूल – पश्चिम दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण – रविवारी सप्तमी (शाम 04:04 से 08 जनवरी सूर्योदय तक)*
💥 *विशेष – षष्ठी को नीम की पत्ती, फल या दातुन मुँह में डालने से नीच योनियों की प्राप्ति होती है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
💥 *रविवार के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)*
💥 *रविवार के दिन मसूर की दाल, अदरक और लाल रंग का साग नहीं खाना चाहिए।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75.90)*
💥 *रविवार के दिन काँसे के पात्र में भोजन नहीं करना चाहिए।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75)*
💥 *स्कंद पुराण के अनुसार रविवार के दिन बिल्ववृक्ष का पूजन करना चाहिए। इससे ब्रह्महत्या आदि महापाप भी नष्ट हो जाते हैं।*
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *आर्थिक परेशानी हो तो* 🌷
🙏🏻 *आर्थिक परेशानी हो, तो सतत ७ शुक्रवार महा-लक्ष्मी के मन्दिर में धूप-दीप दान करें; अपना पुरुषार्थ भी करें, लाभ होगा |*
🙏🏻 *- Shri Sureshanandji*
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *वास्तु शास्त्र* 🌷
🏡 *घर के सामने पेड़ या खंभा होने से घर के बच्चों का स्वास्थ्य ज्यादातर खराब रहता है।*
💥 उपाय ~ *घर के मेन गेट पर रोज स्वस्तिक बनाएं।*
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *भक्ति और आरोग्यता की प्राप्ति हेतु* 🌷
😠 *कई बार लोग बीमार हो जाते हैं, वे बेचारे अपने आप में बहुत बेचैन और खिन्न हो जाते हैं, हम तो बीमार ही रहते हैं तबियत ठीक ही नहीं रहती दवाईयाँ लेनी पड़ती हैं |*
🙏🏻 *नहीं एक काम करें नारद पुराण में लिखा है कि सुबह उठें तो पानी में देखते हुए २५ बार एक मन्त्र बोलना है |*
🙏🏻 *वो मन्त्र बोलकर पानी में देखते-देखते वो पानी फिर अपने गुरुदेव का स्मरण करके पी जाओ | पानी तो पीते ही हैं लगभग सुबह, चाय नहीं पीनी चाहिए | खाली पेट सुबह पानी प्रयोग करना चाहिए | तांबे के लोटे में रखा हुआ पानी और तांबे का लोटा भी मांज लेना चाहिए |*
🙏🏻 *ऐसा नही कि महिना हो गया तांबे का लोटा साफ नहीं किया, तो उसमें जो वो काई जम जाती है वो जहर होती है | ताम्बे का पानी पीते हो तो तांबे के बर्तन को अच्छी तरह से साफ करना चाहिए |*
🙏🏻 *तो सुबह पानी में देखते हुए २५ बार नारद पुराण में सनकादि ऋषि कहते हैं “ॐ नमो नारायणाय…ॐ नमो नारायणाय..ॐ नमो नारायणाय..ॐ नमो नारायणाय..” २५ बार बोलें और हो सके तो ईशान कोण की तरफ मुंह करके बोलें पूर्व और उत्तर के बीच जो ईशान कोण पड़ता है उधर मुंह करके २५ बार बोलें और फिर वो पानी पी जायें |*
🙏🏻 *इससे आरोग्यता की भी प्राप्ति होती है, पाप नाश होते हैं और भी बहुत फायदे होते हैं पर भक्त की नजर फायदे पर नहीं होती उसकी नजर तो भगवान पर गुरु पर होती है |
।।ॐ श्री हरि।।

Leave a Reply