⛅ *दिनांक 21 जनवरी 2018*
⛅ *दिन – रविवार*
⛅ *विक्रम संवत – 2074*
⛅ *शक संवत -1939*
⛅ *अयन – उत्तरायण*
⛅ *ऋतु – शिशिर*
⛅ *मास – माघ*
⛅ *पक्ष – शुक्ल*
⛅ *तिथि – चतुर्थी शाम 03:33 तक तत्पश्चात पंचमी*
⛅ *नक्षत्र – पूर्व भाद्रपद 22 जनवरी सुबह 07:06 तक तत्पश्चात उत्तर भाद्रपद*
⛅ *योग – वरीयान् सुबह 11:17 तक तत्पश्चात परिघ*
⛅ *राहुकाल – शाम 04:55 से शाम 06:17 तक*
⛅ *सूर्योदय – 07:19*
⛅ *सूर्यास्त – 18:20*
⛅ *दिशाशूल – पश्चिम दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण – विनायक – वरद चतुर्थी, गणेश जयंती*
💥 *विशेष – चतुर्थी को मूली खाने से धन का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
💥 *रविवार के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)*
💥 *रविवार के दिन मसूर की दाल, अदरक और लाल रंग का साग नहीं खाना चाहिए।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75.90)*
💥 *रविवार के दिन काँसे के पात्र में भोजन नहीं करना चाहिए।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75)*
💥 *स्कंद पुराण के अनुसार रविवार के दिन बिल्ववृक्ष का पूजन करना चाहिए। इससे ब्रह्महत्या आदि महापाप भी नष्ट हो जाते हैं।*
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

➡ *वसंत पंचमी* 🌷
🙏🏻 *वसंत पंचमी (22 जनवरी 2018) सोमवार के दिन विद्यार्थियों को चाहिए की माँ सरस्वती की आराधना करें, सारस्वत्य मंत्र का जप करें, माँ सरस्वती की सफ़ेद फूलो से पूजा करें, सफ़ेद खीर का भोग लगाये। इस दिन जप-ध्यान-मौन अधिक करें।
🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞

🌷 *वसंत पंचमी* 🌷
➡ *22 जनवरी 2018 सोमवार को वसंत पंचमी है ।*
🙏🏻 *वसंत पंचमी माँ सरस्वती का प्रागट्य दिवस है । सारस्वत्य मंत्र लिए हुए जो भी साधक हैं , सरस्वती माँ का पूजन करें और सफेद गाय का दूध मिले अथवा गाय के दूध की खीर बनाकर सरस्वती माँ को भोग लगाये । सफेद पुष्पों से पूजन करें और जिन विद्यार्थियों सारस्वत्य मंत्र लिया है वे तो खास कर जीभ तालू पर लगाकर सारस्वत्य मंत्र का जप उस दिन करें तो वे प्रतिभासम्पन्न आसानी से हो जायेंगे ।*
🙏🏻 *वसंत पंचमी सरस्वती माँ का आविर्भाव दिवस है । जो भी पढ़ते हो और शास्त्र आदि या जो भी ग्रन्थ, उनका आदर-सत्कार-पूजन करो । और भ्रूमध्य में सूर्यदेव का ध्यान करो । जिससे पढ़ाई-लिखाई में आगे बढ़ोगे ।*
।।ॐ श्री हरि।।

Leave a Reply