मधु कोड़ा

कोयला घोटाला मामले में सीबीआई कोर्ट ने मधु कोड़ा को 3 साल की जेल की सजा सुनाई है। कोर्ट ने कोड़ा पर 25 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। दिल्ली की स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने 13 दिसंबर को ही झारखंड के पूर्व सीएम मधु कोड़ा को कोयला घाटाले में आपराधिक साजिश रचने का दोषी माना था। हालांकि, सजा के ऐलान के कुछ देर बाद ही मधु कोड़ा और तीन अन्य दोषियों को हाई कोर्ट में अपील करने के लिए अंतरिम जमानत भी मिल गई।  कोर्ट ने मधु कोड़ा के अलावा पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता, पूर्व सचिव अशोक कुमार और एक अन्य को भी आपराधिक षड्यंत्र और धारा 120B के तहत दोषी माना था। इससे पहले भी मधु कोड़ा को झटका लग चुका है। चुनाव आयोग चुनावी खर्चे का सही हिसाब नहीं देने के मामले में उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए 3 साल तक के लिए चुनाव लड़ने पर रोक लगा चुका है। मधु कोड़ा 2006 में झारखंड के पांचवें सीएम बने थे। मुख्यमंत्री बनते वक्त वह निर्दलीय विधायक थे। कोड़ा ने अपने राजनैतिक सफर की शुरुआत ऑल झारखंड स्टूडेंड यूनियन के एक कार्यकर्ता के रूप में की थी।
बाबूलाल मरांडी की सरकार में कोड़ा को पंचायती राज मंत्री बनाया गया था। 2005 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने मधु कोड़ा को टिकट नहीं दिया था। इसके बाद कोड़ा ने निर्दलीय चुनाव लड़कर जीत हासिल की। 2006 में कांग्रेस की अगुवाई वाले गठबंधन यूपीए ने उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार कर अपनी सरकार बनाई।

Leave a Reply