समय समय पर पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार द्वारा किए गए घोटाले और भ्रष्टाचार के मामले सामने आते ही रहते हैं लेकिन अभी एक ऐसा मामला सामने आया है जिससे कांग्रेस की देशभक्ति पर ही सवाल उठने लगे हैं।

उड़ी हमले के बाद पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में की गई सर्जिकल स्ट्राइक पर विपक्षी दलों ने सवाल खड़े किए थे । कांग्रेस ने इस हमले के सबूत मांगे थे, परंतु अब एक नए खुलासे के बाद कांग्रेस के नेतृत्व वाली तत्कालीन यूपीए सरकार पर ही सवाल खड़े हो गए हैं ।

हिन्दी न्युज चैनल टाइम्स नाउ के अनुसार, 2008 में हुए मुंबई आतंकी हमले के दौरान एयर चीफ मार्शल रहे फली होमी मेजर (रिटायर्ड) ने रविवार को खुलासा किया कि, उस समय भारतीय वायु सेना इस हमले का बदला लेने के लिए पूरी तरह तैयार थी, परंतु तत्कालीन यूपीए सरकार ने वायु सेना की सर्जिकल स्ट्राइक को मंजूरी नहीं दी ।

मेजर ने बताया कि, वायु सेना पाकिस्तान को सबक सिखाना चाह रही थी । 2008 में इस हमले की पूरी योजना भी बन गई थी । 26/11 हमले के 9 साल बाद पूर्व वायु सेना चीफ ने तत्कालीन यूपीए सरकार पर यह ‘बमबारी’ की है ।

26/11 हमले के बाद की तस्वीरें

उन्होंने बताया कि, उनके पास ऐसा करने की पूरी योजना थी । वायु सेना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आतंकवादियों के प्रशिक्षण शिविर पर हमला करने की ताकत रखती थी, परंतु उस समय की यूपीए सरकार ने वायु सेना को इसकी इजाजत नहीं दी। मेजर ने कहा कि 26/11 हमले के बाद भारत के पास हमले के लिए 24 घंटे का समय था ।
इस मामले के खुलासे के बाद ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस ने देश में घोटाले,भ्रष्टाचार और को तो बढ़ावा दिया ही, साथ देश की सुरक्षा के साथ भी खिलवाड़ करने से बाज नही आये। और सेना का मनोबल भी गिराया।

Leave a Reply