950 करोड़ के चारा घोटाले केस में एक केस देवघर कोषागार से 89 लाख 27 हजार रुपये के फर्जीवाड़े का है. सीबीआई की विशेष अदालत ने 23 दिसंबर को इसी मामले में फैसला सुनाया था।

आज का दिन बिहार की राजनीति के लिए बेहद अहम है. चारा घोटाले के एक मामले में सीबीआई की विशेष अदालत आज बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की सजा का ऐलान करेगी. रांजी की स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने मामले में लालू समेत 16 लोगों को दोषी ठहराया है.
कौन सी करवट लेगी बिहार की सियासत?
लालू यादव फिलहाल रांची की बिरसा मुंडा जेल में बंद है, लालू को कोर्ट कितनी सजा सुनाएगा इस पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं, क्योंकि सजा के ऐलान के साथ ही ये तय हो जाएगा कि आखिर बिहार की सियासत भविष्य में कौन सी करवट लेने वाली है.
रांची पहुंचने लगे हैं लालू के समर्थक
सजा के ऐलान से पहले ही लालू के समर्थक रांची पहुंचने लगे हैं. उधर, लालू का परिवार कोर्ट से न्याय उम्मीद लगाए बैठा है. लालू के बेटे और बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव सजा के ऐलान से पहले ही फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में जाने की बात कर रहे हैं.
किस मामले में मिलनी है लालू को सजा?
बता दें कि 950 करोड़ के चारा घोटाले केस में एक केस देवघर कोषागार से 89 लाख 27 हजार रुपये के फर्जीवाड़े का है. सीबीआई की विशेष अदालत ने 23 दिसंबर को इसी मामले में फैसला सुनाया था. जिसमें कोर्ट ने 22 आरोपियों में से लालू यादव, बिहार के दो पूर्व सांसद आर के राणा और जगदीश शर्मा समेत 16 लोगों को दोषी करार दिया था.
वहीं कोर्ट ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा, बिहार के पूर्व मंत्री विद्यासागर निषाद, बिहार विधानसभा की लोक लेखा समिति (पीएसी) के तत्कालीन अध्यक्ष ध्रुव भगत सहित छह लोगों को निर्दोष करार देते हुए मामले से बरी कर दिया था.
फैसले के बाद जाति को लेकर जंग शुरू
कोर्ट के इस फैसले के बाद जाति को लेकर भी जंग शुरू हो गई थी. यही वजह कि सजा के ऐलान से पहले बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने कहा, ‘’अदालत जाति देख कर सजा नहीं देती. जाति कार्ड काफी पुराना हो चुका है और अब बिहार काफी आगे निकल चुका है।

Leave a Reply