प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले तेजप्रताप यादव बुरे फंसे हैं। एक तरफ जहां  सभी लोग उनके इस बयान की भर्त्सना कर रहे हैं वहीं बीजेपी के सभी नेताओं ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लालू यादव को अपने सुपुत्र की इलाज कराने की सलाह दे डाली ।पांडे ने कहा कि न सिर्फ पूर्व स्वास्थ्य मंत्री को मनोचिकित्सा बल्कि पूरे परिवार को किसी अच्छे सलाहकार की जरूरत है, जो इन लोगों को मर्यादा व संयमता का पाठ पढ़ा सकें।

पांडेय ने कहा कि गत दिनों बिहार के उपमुख्यमंत्री के बारे में अमर्यादित टिप्पणी करने वाले लालू के ‘कन्हैया’ पुत्र ने प्रधानमंत्री पर अमर्यादित बयानबाजी कर मर्यादा की सारी हदें पार कर दी है। लालू प्रसाद को चाहिए कि पहले वे बेटे का इलाज किसी मनोचिकित्सक से कराएं तब विधान मंडल के चालू सत्र में भाग लेने दें।

उन्होंने आशा जताई कि तेज प्रताप सदन में भी आपा खो किसी माननीय से हाथापाई कर सकते हैं। लालू प्रसाद द्वारा उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को तेजप्रताप द्वारा फुंफकारने पर डर जाने की बात पर कहा कि जिसके पिता ही ऐसे अपशब्दों का प्रयोग करेंगे उनके बच्चों से क्या उम्मीद की जा सकती है।

तेजस्वी यादव द्वारा बिहार को घोटालों का प्रदेश और मुख्यमंत्री के संरक्षण में घोटाला होने संबंधी बयान पर कहा कि पहले वे घोटालों के ‘किंगपिन’ अपने पिता से इसके बारे में पूछें तब जाकर किसी पर टिका–टिप्पणी करें।

मंगल पांडेय ने पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के बयान पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र सरकार और भाजपा लालू प्रसाद की तरह जाति विशेष नहीं बल्कि “सबका साथ सबका विकास” की राजनीति करती है, इसीलिए राबड़ी देवी किसी जाति विशेष को टारगेट करने की बात कह एक विशेष जाति को बरगलाना चाह रहीं हैं। वही दिल्ली बीजेपी नेता रामप्रवेश वर्मा ने भी  इस मामले पर  दिल्ली पुलिस में तेज प्रताप यादव पर एक FIR  दर्ज करवाया है ।बहरहाल यह मामला शांत होता हुआ नहीं दिखाई दे रहा है।

Leave a Reply