दिल्ली से बिहार आने जाने वाले यात्रियों के लिए एक बहुत ही बड़ी खुशखबरी है .इकनोमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक दरअसल, केंद्र सरकार यूपी और बिहार सरकार के साथ मिलकर एक प्रोजेक्ट शुरू करने जा रही है, जिसकी इसके अंतर्गत हाईवे निर्माण के इस प्रोजेक्ट में रिंग रोड्स और एक्सप्रेस-वे का नेटवर्क तैयार किया जाएगा.दिल्ली से पटना 11 घंटे में पहुंचने के लिए 4 नए प्रॉजेक्ट्स को पूरा करना होगा। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने पूर्वांचल एक्सप्रेसवे बनाने और फंड करने का प्रस्ताव रखा है। 350 किलोमीटर लंबा पूर्वांचल एक्सप्रेसवे लखनऊ को गाजीपुर से जोड़ेगा। अभी लखनऊ से पटना पहुंचने में ही 11 घंटे से अधिक समय लग जाता है। इससे दुरी तो कम होगा ही साथ में मोदी सरकार इस मुद्दे को 2019 के चुनाव में भुनाना भी चाहती है .

दरअसल अखबार में छपी रिपोर्ट के अनुसार केंद्र ने बिहार सरकार को प्रस्ताव दिया हुआ है कि अगर वह भूमि उपलब्ध कराते हैं तो पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को पटना तक बढ़ाया जा सकता है। पटना एक्सप्रेसवे पर करीब 2000 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। उन्होंने बताया कि पटना से बक्सर के बीच चार-लेन हाइवे प्रॉजेक्ट पहले से प्रस्तावित है, जिसे यूपी के गाजीपुर तक बढ़ाया जा सकता है। तीसरा प्रॉजेक्ट लखनऊ में एक आउटर रिंग रोड का निर्माण होगा। इसका उद्देश्य 302 किलोमीटर लंबे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे को पूर्वांचल एक्सप्रेसवे से जोड़ना होगा। आउटर रिंग रोड बनाने से लखनऊ शहर के ट्रैफिक को झेले बिना गाड़ियां पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पहुंच जाएंगी। चौथा प्रॉजेक्ट 135 किलोमीटर लंबे ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे को ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेसवे से जोड़ने का होगा।

अधिकारियों के मुताबिक पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का काम अगले साल मार्च में शुरू होगा। प्रॉजेक्ट के लिए 77 प्रतिशत भूमि अधिग्रहण हो चुका है। इसे 30 महीनों में पूरा करने की योजना है।

Leave a Reply