खगड़िया रेलवे स्टेशन के पास रेलवे की जमीन पर डोम जाति के करीब 50 परिवार कई साल से रह रहे हैं।जब वहां कोई काम होता है तो उन्हें उजाड़ दिया जाता है। इसके बाद यह लोग फिर से आस-पास ही अपनी झुग्गी डाल लेते हैं। साथ ही एक झुग्गी सभी मिलकर तैयार करते हैं जिसे “देवता घर” कहा जाता है।

इसमें देवी देवताओं के अनेक चित्र होते हैं।इस घर में सुबह शाम नियमित रूप से पूजा होती है। समाजसेवी संजीव कहते हैं कि इन लोगों से बड़ा कोई हिंदू नहीं होगा। इतनी उपेक्षाओं के बाद भी यह लोग हिंदू बने हुए हैं, यह कोई छोटी बात नहीं है। इनका हिंदुत्व इतना प्रबल है कि ईसाई मिशनरियों की दाल यहां नहीं गल पाती है, जबकि यह लोग काफी समय से इन लोगों को ईसाई बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

इनकी इस धर्म-परायणता से हिंदू समाज के उन लोगों को सीख लेनी चाहिए, जो नौकरी पाने या आरक्षण लेने के लिए ईसाई या मुस्लिम बनने की धमकी देते हैं।

Leave a Reply