यशेन्द्र प्रसाद जी ने फ्रेन्च भाषा में छठ मैया की वन्दना लिखी, फिर उसका अंग्रेजी में अनुवाद भी किया … भारतेन्दु दास जी को अहसास हुआ कि शायद आज तक छठ की वन्दना हिंदी में नहीं लिखी गयी है . सो उन्होने ही कविता का भाव इस हिन्दी कविता में उतार दिया ..(ये छठ मैया की ही महिमा है कि इसकी हिन्दी में पहली कविता फ्रेंच से प्रेरित है)

हे छठ मैया, नमन तुम्हें है

गंगा जल में खड़े तुम्हारे
चरणों पर जल को हैं ढारे
विनती करते भक्त तुम्हारे

हे छठ मैया, नमन तुम्हें है

दुःख और पीड़ा हर लो मेरी
सबसे अदभुत किरणें तेरी
मानवता को आस है तेरी

हे छठ मैया, नमन तुम्हें है

शान्ति का वरदान हमें दो
सदभावों का ज्ञान हमें दो
सीता मैया राम हमें दो

हे छठ मैया नमन तुम्हें है

Oh mère Chhath,
We pray to you!
In the waters of the seine I stand
And offering prayers for you, mother chhath!
So that we can overcome
The pain and grief
Which we have been submitted.
We pray to the almighty sun
Whose radiance radiates all creatures.
We pray for you chhath oh mother.
You’re the sixth division of his power.
Please bless humanity
For that we live with love and harmony.
Oh mother chhath, we pray for you.
In the waters of the seine I stand
And offering prayers for you, mother chhath!

[ Une prière à la Déesse Chhath ( sixième partie de la puissance du soleil) qui est adoré lors du coucher de soleil du sixième jour et le lever du soleil du septième jour du mois hindou de Kartik chaque année. ]
Oh mère Chhath,
nous te prions !
Dans les eaux de Seine je statif
et offrir des prières pour vous, mère Chhath !
pour que nous puissions surmonter
la souffrance et les deuils
qui nous ont été soumis.
Nous prie le Tout-Puissant soleil
dont radiance irradie toutes les créatures.
Nous prions pour vous Chhath oh mère.
Vous êtes la sixième division de son pouvoir.
Veuillez bénir l’humanité
pour que nous vivons avec l’amour et l’harmonie.
Oh mère Chhath, nous prions pour vous.
Dans les eaux de Seine je statif
et offrir des prières pour vous, mère Chhath !
– Yashendra (De la part de banques du Gange, en Inde )

Leave a Reply