विविधताओं से भरे बिहार में अगर भोजन की बात की जाए तो लोगों के मन में बिहार के विश्व प्रसिद्ध व्यंजन लिट्टी-चोखा की अनायास ही याद आ जाती है।
बिहार के रहने वाले लोगों के भोजन की कितनी वैरायटी है यह सब तो जानते ही हैं लेकिन बिहार के बाहर रहने वाले लोगों के लिए आज हम प्रस्तुत करने जा रहे हैं बिहार के कुछ प्रमुख व्यंजन।
आप सब को भी एक बार इन सब व्यंजनों का स्वाद जरूर लेना चाहिए।

1. *लिट्टी-चोखा*

जैसा की हमने ऊपर ही लिखा कि बिहार का विश्व प्रसिद्ध व्यंजन है तो उसका स्वाद भी वैसा ही होगा। लिट्टी बनाने के लिए सर्वप्रथम आटे को गूंथा जाता है और उसमें चने के सत्तू से बनाया हुआ मसालेदार भरना(मिश्रण) भरा जाता है। यह भरना बनाने में चने का सत्तू,अदरक,काला नमक, भुना हुआ जीरा, लहसुन,जवाइन मंगरैल,नींबू का रस, हरी मिर्च,बारीक कटा हुआ धनिया पता, खट्टा अचार इत्यादि स्वादिष्ट और सुपाच्य चीजों को मिलाकर बनाया जाता है। फिर इस मसालेदार भरने को लिट्टी में भरकर उसे आग पर या तेल में पकाया जाता है। चोखा बनाने के लिए मुख्य तौर पर आलू और बैंगन को आग पर रखकर पकाया जाता है।फिर उसमें नमक,हरी मिर्च, अदरक, लहसुन धनिया, टमाटर,प्याज व मसलों को मिलाकर अत्यंत ही स्वादिष्ट चोखा बनता है।
फिर लिट्टी के साथ चोखे को जो भी व्यक्ति खाता है तो अनायास ही उसके मुंह से बोल निकल पड़ते है
“वाह लिट्टी महाराज की जय!!”

 

2. *दाल-भात/भात तरकारी*


जी हां, चावल-दाल नहीं दाल-भात!
चावल को हम बिहारी भात ही कहते हैं। यह हमारे बिहार में मुख्य रूप से खाया जानेवाला भोजन है।और इसको बनना भी बहुत आसान है।भात, दाल और चोखा अत्यंत ही स्वादिष्ट और सुपाच्य होता है।
कभी कभी भात के साथ दाल की जगह पर हम बिहारी तरकारी(सब्जी) ही खाते हैं।

3.* *ठेकुआ/खजुरिया*


छठ पूजा के महाप्रसाद ठेकुआ को कौन नहीं जानता?
छठ पूजा के अगले दिन जब हम लोग ऑफिस जाते हैं तो यह प्रसाद खाने के लिए लोगों की लाइन लग जाती है।
आटे में गुड का पानी, घी, नारियल मिलाकर इसको गूंथा जाता है। फिर एक सांचे पर रखकर विशेष तरह की आकृति जी जाती है। उसके बाद शुद्व देशी घी में इसको पकाया जाता है। खाने वाले लोगों को इसकी सुगंध दूर से ही पता चल जाती है।

 

4. *चना के सत्तू*


चना के सत्तू को बिहार का फास्टफूड कहा जाता है।यह अपने-आप मे बहुत बड़ा हेल्थ ड्रिंक है। काले चने को भूनकर उसके पिसे हुए आटे को ही सत्तू कहा जाता है। बिहार में गर्मियों के दिनों में विशेष तौर पर इसकी पहचान है। यदि आप गर्मी के दिनों में कहीं भी सड़क या बाजार की तरफ निकल जाइए तो आपको हर जगह ठेले पर या दुकान में चने का अत्यंत ही स्वादिष्ट सत्तू यहां देखने को मिल जाएगा। चने के सत्तू के साथ काला नमक,भुने जीरे, नींबू का रस,प्याज इत्यादि काटकर बड़ा ही शीतल पेय पदार्थ बनता है।
इसको खाने का दूसरा तरीका और भी है।हलके पानी में सानकर कर गोल-गोल पिंडी बना कर भी इसको प्याज और अचार के साथ खाया जाता है।
चने के सत्तू में फाइबर और प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो सेहत के लिए वरदान है।

 

5. *दलपूड़ी/दाल भरी पूरी*


बिहार के व्यंजनों में दलपुरी का अपना एक अनोखा स्थान है। विशेषकर मांगलिक अवसरों और शुभ मुहूर्त में विशेष तौर पर इसको बनाने की परंपरा है।
इसको बनाने के लिए सबसे पहले चने की दाल को उबाला जाता है फिर उसको सिलबट्टे पर पीसकर महीन बना देते हैं। तत्पश्चात इसको पूरियों में भरकर उस पूरी को शुद्ध घी में तवे पर या कड़ाही में छानकर बनाया जाता है। जिसका स्वाद अत्यंत ही निराला होता है।

 

6. *पडूकिया*


यह एक मिष्ठान व्यंजन है।इसमें सूजी में काजू,किशमिश, बादाम इत्यादि सूखे मेवे भरकर मैदे के साथ इसको विशेष आकृति दी जाती है।बिहार में प्रत्येक त्योहार या मेहमानों के आने पर यह जरूर बनता है।

7. *चना-घुघनी*


यह भी बिहार का एक फास्टफूड है जो नाश्ते में मुख्य रूप से पसन्द किया जाता है। चना घुघनी बनाने के लिए भिंगोए हुए चने को उबाला जाता है। फिर उसको प्याज, अदरक, लहसुन, जीरा, धनिया,हरी मिर्च मिलाकर तेजपते का फोरन देकर सरसों तेल में पकाया जाता है।यह अत्यंत ही चटपटी, तीखी और करारी लगती है जिसे खाने में बड़ा ही मजा आता है ।बिहार के किसी भी चौक चौराहे पर शाम को आप निकलिए, आसानी से यह आपको मिल जाएगा।

8. *दाल-पीठा*

 

दाल पीठा को बिहार में “दाल मे के दुल्हिन” भी कहा जाता है चावल के आटे से बने गुजिया की सबसे पहले भाप में पकाया जाता है। फिर इसको दाल में ही डालकर बनाया जाता है।
यह व्यंजन अत्यंत ही पौष्टिक और सेहत बनाने वाली है।

 

*9. *पुआ/मालपुआ*


वैसे तो यह व्यंजन पूरे भारत में प्रसिद्ध है लेकिन बिहार में भी लोग इसे बड़े चाव से खाते हैं।
होली के दिन और बसंत पंचमी के दिन बिहार के हर घर में यह जरूर बनता है। सूजी में चीनी,काजू ,किसमिस, बादाम, छुहारे इत्यादि ड्राई फ्रूट डालकर इसका घोल बनाते हैं। फिर उसको देसी घी में कड़ाही में छानकर बनाया जाता है। यह बहुत ही स्वादिष्ट और मिष्ठान भोजन है।

10. *कढ़ी-बड़ी*


बेसन से बनाया जाने वाला यह व्यंजन बिहार में लोग खूब पसंद करते हैं। सबसे पहले बेसन को घोलकर उसकी बड़ी बनाई जाती है। और फिर उस बड़ी को बेसन की कढ़ी में डालकर पकाया जाता है जो खाने में बेहद ही स्वादिष्ट लगती है। अपने बिहार में लोग इसको चावल के साथ खाना ज्यादा पसंद करते हैं।

कैसा लगा आपको हमारा यह आर्टिकल? अपनी राय कमेंट में जरुर व्यक्त करें।
अच्छा लगा हो तो अपने मित्रों के साथ जरुर शेयर करें।

Leave a Reply