रांची की जानी मानी योग ट्रेनर राफिया को जान से मारने की धमकी मिली है। साथ ही उनके घर पर कटरपंथी मुसलमानों ने हमला कर पथराव किया है।

रांची में योग करनेवाले लोगों के बीच राफिया एक जाना पहचाना नाम है। मुस्लिम होते हुए भी उन्होंने योग की ट्रेनिंग ली और लोगों को योग सिखाने का काम शुरू किया। और देखते ही देखते वो रांची में मशहूर योग प्रशिक्षक बन गईं।योगगुरु बाबा रामदेव के मंच पर राफिया ने उनके साथ योग किया है और बाबा रामदेव ने उनकी काफी तारीफ की है।
लेकिन कुछ कट्टरपंथी मुस्लिमों को उनका योग सिखाना रास नही आया।और फेसबुक और फ़ोन के माध्यम से लोग उनको लगातार धमकिया मिलती रहती हैं और इस्लाम से बाहर करने का फतवा जारी कर दिया गया है।

मौलाना की धमकी के बाद रोती हुईं राफिया

कल एक टीवी चैनल पर लाइव शो में एक मौलाना नदीमुद्दीन ने उनके खिलाफ अपशब्द का तो प्रयोग किया ही यहां तक कह दिया कि तुम्हारे जनाजे की नमाज कोई मुसलमान नहीं पढ़ेगा. मौलावा नदीमुद्दीन का कहना है कि राफिया इस्लाम को बदनाम कर रही है और महज पब्लिसिटी के लिए वह योग का सहारा ले रही है. वही राफिया ने मौलाना से सवाल किया कि वह बतायें कि क्या इस्लाम में योग हराम है? क्या एक मुसलमान को योग नहीं करना चाहिए. उनके इस सवाल पर मौलना चुप हो गये और कहा कि योग करने की इस्लाम में मनाही नहीं है, लेकिन एक औरत मर्दों को योग की ट्रेनिंग दे, यह इस्लाम के खिलाफ है.

उन्होंने राफिया को नौटंकीबाज बताया और कहा कि वह इस्लाम को बदनाम कर रही है, अगर उसे योग सिखाना है तो वह इस्लाम में नहीं रह सकती और उसे अपना नाम बदलना होगा. इसपर राफिया ने कहा कि वह एक मुसलमान के घर पैदा हुई और उसका ईमान पाक है. वह सच्चे दिल से मुसलमान है और उसे खुदा पर पूरा भरोसा है. वह अपना नाम क्यों बदले जबकि वह एक पाक दिल मुसलमान है. राफिया ने कहा कि उसका खुदा उसके साथ है उसे किसी का कैसा डर? उसने कहा कि उसका परिवार और उसका कौम उसके साथ है, फिर भी कुछ कट्टरपंथी लोग उसे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. उसके घर पर हमले किये जा रहे हैं. राफिय ने मौलना से कहा कि वह जब चार साल की थी तभी से योग कर रही है. उसकी तसवीर 2005 से अखबारों में प्रकाशित होती रही है, फिर आज क्यों मैं लोगों को अखर रही हूं कि मेरे खिलाफ फतवा जारी कर दिया गया है. राफिया ने सवाल उठाया कि आखिर क्यों कट्टरपंथियों को कभी सानिया का स्कर्ट दिखता है तो कभी मेरा योग.

योगगुरू बाबा रामदेव के मंच पर योग करतीं राफिया नाज

गौरतलब है कि राफिया नाज रांची के मारवाड़ी कॉलेज में एमकॉम की छात्रा हैं और उन्हें योग में महारत हासिल है. राफिया 20 वर्ष की हैं और जब वह चार साल की थीं तभी से योग कर रही हैं. उन्हें अबतक योग के क्षेत्र में 50 से अधिक पुरस्कार मिल चुके हैं. उन्होंने बाबा रामदेव के मंच से भी अपने योग का हुनर दिखाया है और उन्हें वाहवाही भी खूब मिली है. राफिया रांची के डोरंडा इलाके के रहमत कॉलोनी में रहती हैं और लोगों को योग सिखाती हैं. राफिया नाज एक तेज तर्रार युवा हैं, वह आजसू पार्टी की टिकट पर दिसंबर 2016 में मारवाड़ी कॉलेज में महासचिव के तौर पर चुनी गयी थी. बाद में पार्टी ने उसे स्टूडेंट यूनियन का स्टेट सेक्रेटरी बना दिया. पिछले दिनों राफिया ने मारवाड़ी कॉलेज के पास लड़कियों के साथ होने वाली छेड़खानी के खिलाफ भी आवाज उठाई थी. राफिया रांची के एसएस डोरंडा स्कूल की छात्रा रही हैं और उन्होंने सुशांत भट्टाचार्य से योग की शिक्षा ली है।

Leave a Reply