हिमाचल : राजपूत होने का मिला लाभ, मुख्यमंत्री होंगे जयराम ठाकुरराजपूत जाति और 5वीं बार मंडी जिले के सिराज विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने जाने का भरपूर लाभ मिल रहा है युवा जयराम ठाकुर को. जातीय समीकरण की दृष्टि से देखें तो अब तक हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्रियों की तालिका में ज्यादातर राजपूत जाति से तालुक रखते हैं. प्रेम कुमार धूमल को भाजपा पहले ही अपना सीएम उम्मीदवार घोषित कर चुकी थी लेकिन धूमल की हार के बाद उनके सीएम पद की दावेदारी लगभग खत्म हो गई. गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल भी राजपूत जाति से ताल्लुक रखते हैं. हिमाचल प्रदेश में राजपूत समुदाय के मतदाता 35 फीसदी हैं और ब्राह्मणों समुदाय के मतदाता 20 फीसदी हैं. सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमित शाह से साफ कहा है कि मुख्यमंत्री की कमान एक युवा के हाथों में होगी. यानी साफ है कि भाजपा आलाकमान एक युवा चेहरे को मुख्यमंत्री का पद सौंपना चाहता है. इसके बाद हिमाचल प्रदेश के विधायक दल ने जयराम ठाकुर का अपना नया नेता चुना है. ऐसे में अब हिमाचल प्रदेश में जयराम ठाकुर का सीएम बनना तय हो चुका है. अब इसकी घोषणा दिल्ली में पार्टी हाईकमान से विमर्श के बाद आज या कल की जाएगी. जयराम ठाकुर की 79 वर्षीय मां बिक्रमू देवी बेटे की इस उपलब्धि पर फूली नहीं समा रही हैं. काश इसके पिता, बेटे का इतना बड़ा राजनीतिक कद और सीएम पद की सशक्त दावेदारी देखने के लिए जिंदा होते. मजदूरों की तरह मेहनत कर मेरे पति ने इस परिवार को अपने कंधों पर खड़ा किया है, इस परिवार ने बड़ी गरीबी देखी है. गौरतलब है कि इनके पिता जेठूराम का पिछले साल 25 दिसंबर’16 को देहांत हो गया था.

जयराम ठाकुर फेसबुक फोटो

शिमला में जमकर हुआ राजनीतिक नाटक 

शहर की पीटरहॉफ होटल में भाजपा नेताओं के साथ पार्टी पर्यवेक्षक निर्मला सीतारमण और नरेंद्र तोमर की कोर कमेटी की गुरुवार को बैठक चल रही थी. दूसरी तरफ हिमाचल प्रदेश पार्टी प्रभारी मंगल पांडे भाजपा विधायक दल के साथ बैठक कर रहे थे. होटल के बाहर जयराम ठाकुर के समर्थक नारेबाजी कर रहे थे. वहीं प्रेम कुमार धूमल के भी समर्थक जुटकर नारेबाजी कर रहे थे. बैठक में विधायक दल ने जयराम ठाकुर का अपना नया नेता चुना, हालांकि धूमल समर्थक विधायकों ने नाराजगी व्यक्त की.  धूमल के ज्यादातर करीबी चुनाव हार गए हैं, फिर भी जीतकर आए कई विधायक उनके साथ हैं. कुटलैहड़ के विधायक वीरेंद्र कंवर और पौंटा के विधायक सुखराम ने उनके लिए अपनी सीट खाली करने की घोषणा की. बहरहाल, बैठक से एक दिन पहले जयराम ठाकुर बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल से उनके समीरपुर स्थित आवास पर मिले और लगभग आधा घंटा उनसे मंत्रणा की. धूमल उनको छोड़ने गाड़ी तक आए और जयराम ठाकुर ने बाकायदा उनसे पैर छूकर आशीर्वाद लिया. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रेम कुमार धूमल ने जयराम ठाकुर के नाम पर अपनी सहमति जता दी है. जयराम ठाकुर भाजपा सरकार में ग्रामीण विकास व पंचायती राज मंत्री व प्रदेश में भाजपा अध्यक्ष भी रह चुके हैं. 2014 के उप चुनाव में मौजूदा मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी से चुनाव हार गए थे.

Leave a Reply