अभी त्योहारों का मौसम है और इस त्यौहार के मौसम में घर जाने वाले लोगों की भारी भीड़ हो जाती है। राजधानी दिल्ली से बिहार,झारखंड और उत्तर प्रदेश जाने वाले यात्रियों की संख्या इस त्यौहार के मौसम में बहुत ज्यादा हो जाती है। जिसको लेकर रेलवे नियमित गाड़ियों के अलावा अतिरिक्त गाड़ियां भी चलाता है। लेकिन स्थिति तब खराब होती है जब पहले से नियमित रूप से चल रही गाड़ियां भी विलम्ब से चलने लगती है।
ऐसे ही एक गाड़ी है लिच्छवी एक्सप्रेस, जो आनंद विहार से चलकर इलाहाबाद,बनारस, छपरा होते हुए सीतामढ़ी को जाती है।
जिससे इन क्षेत्रों के यात्री यात्रा करते हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से देखा जा रहा है कि यह गाड़ी बहुत ही ज्यादा लेट हो रही है जिससे यात्रियों की परेशानी बढ़ते ही जा रही है।

 

यह गाड़ी 2-4 घंटे नहीं बल्कि 12-13 घंटे विलंब से चल रही है।
जिससे पर्व त्यौहार में गांव और अपने क्षेत्र जाने वाले यात्रियों की परेशानी बढ़ गई है।
चूंकि इसका एक कारण रेलवे द्वारा चलाई हुई अतिरिक्त गाड़ियां भी हैं जो पहले से ही कम पड़नेवाले ट्रैक पर ही चल रही हैं।
अब इन्ही ट्रैक पर ज्यादा गाड़ियां चलने के कारण खाली ट्रक उपलब्ध नहीं हो पाता है,
तो गाड़ियां लेट ही जाती हैं।

फिर भी रेल मंत्रालय और रेलवे के अधिकारियों से आग्रह है कि अपने कुल क्षमताओं का समुचित उपयोग करते हुए इस त्योहारी सीजन में रेलगाड़ियों की गति और उनके सुचारु संचालन केे लिए उचित व्यवस्था की जाए ताकि लोग कम से कम परेशानी झेलते हुए अपने घर और गांव को पहुंच सकें।

Leave a Reply