सुशील मोदी के बेटे उत्कर्ष की शादी में लालू यादव

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने अपने बेटे की शादी में मेहमानों से गिफ्ट और लिफाफा ना लाने का आग्रह किया था। फिर भी कई मेहमान शादी जैसे पवित्र मौका और शगुन का हवाला देकर लिफाफा लेकर पहुंच ही गये। डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने इन लिफाफों को दान कर दिया है। सुशील मोदी ने ट्वीट कर बताया कि उन्होंने बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी देवी और लालू यादव से मिले शगुन के लिफाफे को सामाजिक संस्था ‘दधीचि देहदान समिति’ को दान कर दिया है। सुशील मोदी ने दूसरे मेहमानों से भी मिले लिफाफे को इस संस्था को सौंप देंगे। सुशील मोदी ने अपने बेटे उत्कर्ष की शादी में पहुंचे सभी मेहमानों का धन्यवाद दिया। सुशील मोदी ने कहा कि उपहार ना लाने की घोषणा के बावजूद कई मेहमान लिफाफा लेकर पहुंच ही गये। उन्होंने आज के युवक-युवतियों से दहेज मुक्त और सादगी पूर्ण शादी करने की अपील की है। सुशील मोदी ने कहा कि डिजिटल इंडिया के दौर में लोगों को महंगे निमंत्रण कार्ड छपवाने के बजाए ई-निमत्रंण का प्रयोग करना चाहिए।

इधर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े पुत्र तेजप्रताप यादव के लिए वधु तलाशने को भी तैयार हैं, लेकिन इसके लिए उन्होंने तीन शर्तें रखी है। सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा कि वे तेजप्रताप यादव के लिए वधु तलाशने के लिए तैयार हैं, अगर वे उनकी तीन शर्तें कोई दहेज नहीं, अंगदान की शपथ लें और किसी की शादी में विध्न डालने की धमकी नहीं देने को स्वीकार कर लें। बता दें कि सुशील मोदी के बेटे की शादी में शरीक हुए 150 मेहमानों ने अंगदान करने का फैसला किया है।

राजद प्रमुख लालू प्रसाद और उनके परिवार के खिलाफ हाल के दिनों में लगातार बेनामी संपत्ति को लेकर प्रहार करने वाले सुशील के पुत्र उत्कर्ष की शादी में लालू के बडे पुत्र और पूर्व मंत्री तेजप्रताप के विध्न डाले जाने की धमकी भरा एक वीडियो फुटेज हाल ही में जारी हुआ था जिस पर बाद में तेजप्रताप ने उनसे कहा था कि वे अपने पुत्र की शादी को लेकर चिंतित न हों क्योंकि वे कोई अपराधी या आतंकवादी नहीं हैं।

Leave a Reply