ऐसा देश में पहली बार हो रहा है जब ९८ साल के बुजुर्ग ने पोस्ट ग्रैजुएशन की डिग्री प्राप्त की हो .नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी के 12वें दीक्षांत समारोह में देश में पहली बार 98 साल के बुजुर्ग को पोस्ट ग्रैजुएशन की डिग्री दी गई। मंगलवार को एक प्रोग्राम के दौरान पटना के राजेंद्रनगर के रहने वाले राजकुमार वैश्य को मेघालय के राज्यपाल गंगा प्रसाद ने पीजी इकोनॉमिक्स की डिग्री दी। राजकुमार ने सेकेंड डिवीजन में पीजी की परीक्षा पास की है। बता दें कि राजकुमार ने ग्रैजुएशन के 71 साल बाद पोस्ट ग्रैजुएशन में एडमिशन लिया था।

अपनी डिग्री हासिल करने के बाद वैश्य ने कहा, मैं आज अपनी डिग्री पाकर बहुत खुश हूं क्योंकि मैंने इसके लिए कड़ी मेहनत की थी.यूनिवर्सिटी के पदाधिकारियों का काफी सहयोग मिला। उन्होंने सुलभता से कोर्स करने में मदद की। पढ़ने की इच्छा अभी भी है लेकिन हेल्थ साथ नहीं दे रहा है। उन्होंने बताया कि काफी लंबे समय से मैं अपनी मास्टर डिग्री पूरी करना चाह रहा था, फिर मैंने मास्टर्स के लिए 2015 में एडमिशन लिया. 98 साल के वैश्य ने इस मौके पर युवाओं के लिए भी सीख दी कि उन्हें सिर्फ करियर नहीं बल्कि अपनी शिक्षा पर भी ध्यान देना चाहिए.

नालंदा यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉक्टर आरके सिन्हा ने कहा कि आज का दिन नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी के इतिहास में स्वर्णिम दिवस के रूप में जाना जाएगा। 98 साल की उम्र में डिग्री लेना इंडिया में पहला मामला है। पितातुल्य राजकुमार वैश्य को हमलोगों ने डिग्री दी है। उन्होंने 98 साल की उम्र में वर्ष 2015 में पोस्ट ग्रैजुएशन में एडमिशन लिया और अपने रेग्यूलर सेशन में यानी 2017 में पीजी एग्जाम पास किया।

Leave a Reply